लेखक एवं संपादक

"बहुत वर्ष पहले मैं परमहंस योगानन्द के पास आया था, एक जिज्ञासु के रूप में नहीं, बल्कि एक सहानुभूतिपूर्ण तथापि विश्लेषणात्त्मक व समीक्षात्मक दृष्टिकोण वाले लेखक की तरह। मुझे उनमें एक दुर्लभ संयोजन मिला। यद्यपि अपनी गहन आस्था के प्राचीन सिद्धांतों पर दृढ़ होते हुए भी, उनमें उदारतापूर्वक स्वयं को ढालने की प्रतिभा थी, जिससे वह भारतीय और हिंदू रहते हुए भी क्रिस्चियन और अमरीकी बन सके। अपनी तीव्र वाकपटुता और महान मनोवृति के चलते, संसार के धार्मिक जिज्ञासुओं के बीच, मेलजोल और सत्य को बढ़ावा देने हेतु, सर्वथा योग्य थे। वह जन-साधारण के जीवन में हर्ष और शांति लाए।"

— डा. वेन्डल थॉमस, लेखक और भूतपूर्व प्रवक्ता, कॉलेज ऑफ द सिटी ऑफ न्यू यॉर्क

"जो, मानवीय भाईचारे के और पूर्वी एवं पश्चिमी विश्व के महान धर्मों के बीच अच्छी समझ रखने के नाते, सदगुरु योगानन्द के कार्य से परिचित हैं, और प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप में, उनके लेखन के माध्यम से, उनके संपर्क में आए, वे जानते थे कि वह एक अनुपम आध्यात्मिक बल थे….

“मुझे याद है एक बार महात्मा गांधी ने, योगानन्द की उदात्त प्रशंसा करते हुए उनके बारे में कहा था, ‘यह योगानन्द जैसे आध्यात्मिक व्यक्ति ही हैं, जो सारे राजनीतिज्ञों के समूह से भी अधिक, भारत एवं पश्चिम के बीच गहरी समझ की, सच्ची आस्था का संदेश लेकर आए हैं।’"

— डा. कैमिले होइंग, लिटरेरी एडिटर (साहित्यिक संपादक), द कैलिफोर्निया ज्युइश वौइस्

"भविष्य के सभी समय के लिए, परमहंस योगानन्द, जो अब हमारे बीच सशरीर नहीं हैं, उन्हें भारत की उच्च संस्कृति के नए विश्व के महानतम राजदूतों में से एक माना जायेगा सेल्फ रियलाइजे़शन फ़ेलोशिप के, अनेकों केंद्रों का केवल अमरीका में ही नहीं बल्कि सभी द्वीपों पर होना, स्वयं-सिद्ध प्रमाण है पृथ्वी पर उनके मिशन की सफलता का।"

— डा. डब्लयू वाई ईवान्ज वेंट्ज़, एम ए, डी लिट, डी एस सी, जीसस कॉलेज, ऑक्सफोर्ड

"परमहंस योगानन्द ज्ञान एवं मानवता की उन शिष्टतम विभूतियों में से एक हैं जिन्हें इस पीढ़ी ने देखा है।"

— डा. फ्रांसिस रोल्ट-व्हीलर, मैटाफिज़िकल स्कॉलर, एल एस्ट्रौफी के संपादक, नाईस, फ्रांस

"वह प्रेरित थे... महान लोगों में से एक। वह हर प्रकार से एक विशिष्ट व्यक्ति थे। उन्होंने जो कुछ कहा – लोगों के लिए सहायक था। उन्होंने लोगों को एक पवित्र, विशुद्ध आस्था, एक सार्वभौमिक आस्था का रास्ता दिखाया….

“मुझे लगता है कि सेल्फ रियलाइजे़शन फ़ेलोशिप (एसआरएफ) नाम, उनके कार्य का स्पष्ट वर्णन करता है—यह उन व्यक्तियों का साहचर्य है जो अपने सच्चे स्वरूप का, अपनी क्षमताओं का साक्षात्कार कर रहे हैं ...जब मैं, एस आर एफ के किसी केंद्र पर गया, चाहे वह कहीं भी था, चाहे पैसिफ़िक पैलीसेड्स में लेक श्राइन हो या माउण्ट वॉशिंगटन एसआरएफ मुख्यालय या कहीं और, जिस एक तत्व ने मुझे अति आकर्षित किया वह तत्व था शांति। वे न केवल शांति के विषय में बोलते थे, वे न केवल शांति का दावा थे, अपितु वे वास्तव में शांति में विश्वास रखते थे। वे वस्तुतः शांतिपूर्ण जीवन जीते थे.. सेल्फ रियलाइजे़शन फैलोशिप अपने संस्थापक, योगानन्द, की प्रतिछाया है।"

— डैन थ्रैप, भूतपूर्व धर्म संपादक, लॉस ऐंजिलीस टाइम्स

"मैं अग्रणी होने के विषय में जानती हूं क्योंकि मैं स्वयं भी एक अग्रदूत रही हूं। हम महिलाएँ जिन्हें मताधिकार के लिए लड़ना पड़ा, पूर्वाग्रहों और रुढ़िवादी विचारों से लड़ रहीं थी...हम उतने ही अग्रदूत थे जितने वो जिन्होंने अमरीका की भौतिक आधारशिला रखी। कई वर्षों तक पूर्वी संतों के दर्शनशास्त्र की छात्रा होने के नाते, मुझे स्वामी योगानन्द जी के चरणों में अपनी तुच्छ सी श्रद्धांजलि रखते हुए हर्ष हो रहा है....

"वह एक तेजस्वी विश्वगुरु हैं जिनकी शिक्षाओं के लिए यह सदी परिपक्व है। मुझे वह इस देश की दक्षता और पूर्व की आध्यात्मिकता के बीच, एक संपर्क अधिकारी दिखाई पड़ते हैं। प्रत्येक को दूसरे की आवश्यकता है, प्रत्येक को आपस में घुलना-मिलना चाहिए...स्वामी योगानन्द जैसे नेता की अत्यधिक आवश्यकता है... उनका दर्शनशास्त्र विचारकों को, भौतिकता से असंतुष्टों को, सत्य के प्रकाश में छाया की तरह लुप्त होने वाले मिथ्या जगत की क्षणभंगुरता से ऊब चुकों को, आकर्षित करता है।"

— हेस्टर एम पूले, लेखक एवं महिला मताधिकार आंदोलन की प्रणेता

"उनके द्वारा स्थापित साहचर्य (फ़ेलोशिप) के दो उद्देश्य हैं: ईश्वर की दिव्य चिंगारी के रूप में अपने सच्चे स्वरूप को जानकर ईश्वर से संपर्क और समस्त मानव जाति से साहचर्य। वास्तव में योगानन्द आध्यात्मिक और भौतिक धरातल में अन्तर्निहित एकता, के साक्षात्कार के माध्यम से, विज्ञान व अध्यात्म के बीच सामंजस्य कर, उनके बीच अत्यंत आवश्यक पुनः समायोजन का प्रयास कर रहे थे। परमहंस योगानन्द ने कई चमत्कार किए। मुझे उनकी आँखों और व्याख्यानों से झांकता उनका चुंबकीय व्यक्तित्व अभी तक याद है। मैंने उन्हें पश्चिम में पूर्व का संदेशवाहक माना। निस्सन्देह उन्होंने सभी संगी साथियों को प्रसन्नता का मार्ग दिखाया। भारत को अपने सपूत पर गर्व है, इतना महान, प्रेममय, दैविक मनुष्य और विश्वप्रेमी"

— श्री भूपिंद्र नाथ सरकार , इंडिया एडुकेटर एंड राइटर, इन कलकत्ता हिंदुस्तान स्टैंडर्ड

शेयर करें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email