क्षमाशीलता

श्री श्री परमहंस योगानन्द के लेखन के अंश

कुछ धर्मग्रन्थों के भगवान् बदला लेने वाले देवता हैं, जो हमें दण्ड देने के लिए सदा तत्पर रहते हैं। परन्तु जीसस ने हमें भगवान् का वास्तविक स्वभाव दिखाया है।… उन्होंने अपने शत्रुओं को “स्वर्गदूतों की बारह सैन्य पलटन” से नष्ट नहीं किया, अपितु दिव्य प्रेम की शक्ति से बुराई पर विजय प्राप्त की। उनके कार्यों ने भगवान् के श्रेष्ठतम प्रेम का प्रदर्शन किया, और उन लोगों के व्यवहार को दिखाया जो भगवान् के साथ एक हैं।

महाभारत में कहा गया है: “चाहे किसी भी प्रकार की हानि क्यों न की गयी हो मनुष्य को क्षमा कर देना चाहिए।” “ऐसा कहा गया है कि मनुष्य की क्षमाशीलता के कारण ही जीव-जाति का अस्तित्व निरन्तर बना हुआ है। क्षमा पवित्रता है; क्षमा के कारण ही सृष्टि टिकी हुई है। क्षमा ही शक्तिमानों की शक्ति है; क्षमा ही त्याग है; क्षमा ही मन की शान्ति है। क्षमा और सौम्यता आत्म संयमी व्यक्तियों के गुण हैं। वे शाश्वत सद्धर्म का प्रतिनिधित्व करते हैं।”

तब पीटर उनके पास आया और बोला, “प्रभो! मेरा भाई मेरे विरुद्ध कितनी बार पाप करेगा और मैं उसे क्षमा करता रहूँगा? क्या सात बार?” जीसस ने उससे कहा, “मैं तुमको सात बार तक नहीं कहता हूँ! परन्तु सत्तर बार सात?” इस दुराग्रही परामर्श को समझने के लिए मैंने गहन प्रार्थना की। “हे प्रभो!” मैंने विरोध प्रकट किया, “क्या यह सम्भव है?” जब अन्ततः दिव्य वाणी का उत्तर आया, तो अपने साथ विनम्रता के प्रकाश का सैलाब लाया: “हे मानव, मैं तुममें से प्रत्येक को दिन में कितनी बार क्षमा करता हूँ?”

जिस प्रकार ईश्वर हमें लगातार क्षमा करते रहते हैं, हमारे सभी [गलत] विचारों को जानते हुए भी, इसी प्रकार जो ईश्वर के साथ पूरी तरह से समस्वर हैं वे भी स्वाभाविक वैसा ही प्रेम रखते हैं।

आपके हृदय में वह सहानुभूति ही उमड़नी चाहिए जो दूसरों के हृदयों से सारी पीड़ाओं को शान्त करती है। उसी सहानुभूति के कारण जीसस यह कह सके: “हे परमपिता! उन्हें क्षमा कर दें, क्योंकि वे नहीं जानते कि वे क्या कर रहे हैं” उनका महान् प्रेम सभी में व्याप्त था। जीसस केवल एक दृष्टि मात्र से अपने दुश्मनों को नष्ट कर सकते थे, तथापि जिस प्रकार ईश्वर हमारे सारे बुरे विचारों को जानते हुए भी हमें निरन्तर क्षमा करते रहते हैं, उसी प्रकार वे महान् आत्माएँ जो सदा ईश्वर के साथ अन्तर्सम्पर्क रखती हैं, हमें वही प्रेम प्रदान करती हैं।

यदि आप कूटस्थ चेतना विकसित करना चाहते हैं, तो सहानुभूतिशील बनना सीखें। जब दूसरों के लिए आपके हृदय में विशुद्ध भाव आते हैं, तब आप उस महान् चेतना को प्रकट करना आरम्भ कर रहे हैं।… भगवान् कृष्ण ने कहा: “वह सर्वोच्च योगी है जो सभी मनुष्यों का समभाव के साथ सम्मान करता है।…”

क्रोध और घृणा से कुछ भी प्राप्त नहीं होता है। प्रेम लाभान्वित करता है। आप किसी व्यक्ति को डरा सकते हैं, परन्तु एक बार वह व्यक्ति पुनः उठ जाए, तो वह आपको नष्ट करने का प्रयास करेगा। तब आपने उसे जीता कैसे है? आपने जीता नहीं है। विजय का एकमात्र मार्ग प्रेम ही है। और जहाँ पर आप विजय प्राप्त नहीं कर सकते, वहाँ केवल मौन हो जाएँ या बाहर चले जाएँ और उसके लिए प्रार्थना करें। आपको इसी तरह से प्रेम करना चाहिए। यदि आप अपने जीवन में इसका अभ्यास करते हैं, तो आपको अकल्पनीय शान्ति प्राप्त होगी।

प्रतिज्ञापन

प्रतिज्ञापन के सिद्धांत एवं निर्देश

“आज मैं उन सब को क्षमा करता हूँ जिन्होंने कभी मुझे ठेस पहुँचाई है। मैं सभी प्यासे हृदयों को अपना प्रेम प्रदान करता हूँ, जो मुझे प्रेम करते हैं तथा जो मुझे प्रेम नहीं करते उन्हें भी।”

अधिक जानकारी हेतु

शेयर करें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email