QUOTE OF THE DAY

GratitudeNovember 27

India, in the person of one of her great masters, Paramahansa Yogananda, has brought to us this priceless knowledge of soul-realization. How grateful we should be to a people whose greatest men, down the centuries, have given their lives, have renounced everything else, in order to explore the divine potentialities in man! What India has given us today in Paramahansaji’s teachings is worth more to us than anything we could give to India in exchange. Today the Western man is in dire need of a spiritual technique for developing his soul resources. That technique is Kriya Yoga, an ancient science brought to us for the first time by a master from India.

– Sri Sri Rajarsi Janakananda
“Rajarsi Janakananda: A Great Western Yogi”

आज का विचार

कृतज्ञताNovember 27

भारत, अपने महान् गुरुओं में से एक, परमहंस योगानन्द के रूप में, आत्म - साक्षात्कार का यह अमूल्य ज्ञान हमारे बीच लाया है। उस लोक - समाज के प्रति हमें कितना कृतज्ञ होना चाहिये जिसकी महानतम विभूतियों ने, युगों - युगों से, मनुष्य की दैवी सम्भावनाओं की खोज करने के लिये सब कुछ त्यागकर अपना जीवन अर्पित कर दिया! भारत ने आज हमें परमहंसजी की शिक्षाओं के माध्यम से जो दिया है, उसके बदले में हम उसे जो कुछ भी दे सकें, उसकी तुलना में यह हमारे लिये कहीं अधिक मूल्यवान् है। आज पाश्चात्य मनुष्य को अपने आत्मिक स्रोतों के विकास के लिये किसी आध्यात्मिक प्रविधि की नितांत आवश्यकता है। वह प्रविधि क्रियायोग है, एक प्राचीन विज्ञान, जो हमारे लिये पहली बार भारत के एक महान् गुरु ले कर आये हैं।

— श्री राजर्षि जनकानन्द,
“Rajarsi Janakananda : A great Western Yogi”

આજે ધ્યાનમાં

કૃતજ્ઞતાNovember 27

ભારત પોતાના મહાન ગુરુઓમાંના એક શ્રી શ્રી પરમહંસ યોગાનંદના માધ્યમથી આત્મ-સાક્ષાત્કારનું આ અમુલ્ય જ્ઞાન આપણી વચ્ચે લાવ્યું છે. આપણે તે મહાન વ્યક્તિઓનો કઇ રીતે આભાર માની શકીએ, કે જેણે માનવમાં રહેલી દિવ્યતાની સંભાવનાને ઉજાગર કરવા માટે સદીઓથી, સર્વ વસ્તુઓનો ત્યાગ કરી દઇને, પોતાનાં સંપૂર્ણ જીવન અર્પણ કરી દીધા ! પરમહંસ યોગાનંદજીના ઉપદેશોના માધ્યમથી ભારતે જે આપણને આપ્યું છે, તેના બદલામાં આપણે જે કંઇ પણ ભારતને આપીએ તે ઓછું છે. આજકાલ પાશ્વાત્ય માનવ પોતાના આત્મિક સ્રોતોનો વિકાસ કરવા માટે કોઇ આધ્યાત્મિક પ્રવિધિની તીવ્ર જરૂરિયાત અનુભવી રહ્યો છે. અને તે પ્રવિધિ “ક્રિયાયોગ” છે, એક એવું પ્રાચીન વિજ્ઞાન કે જે પહેલી વાર જ ભારતના એક મહાન ગુરુ દ્વારા આપણા માટે લાવવામાં આવ્યું છે.

-શ્રી શ્રી રાજર્ષિ જનકાનંદ,
‘‘Rajarsi Janakananda: A Great Western Yogi’’

இன்றைய தத்துவம்

நன்றிக்கடன்November 27

பாரதம், தன் மகோன்னத குருமார்களில் ஒருவரான பரமஹம்ஸ யோகானந்தர் மூலமாக இந்த விலைமதிப் பற்ற ஆத்ம-அனுபூதி ஞானத்தை நமக்கு அளித்திருக்கிறது. யுகயுகங்களாக மனிதனுள் உள்ள தெய்வீக ஆற்றலைத் தேடுவதற்காகவே தங்கள் வாழ்க்கையை அர்ப்பணித்த, மற்ற எல்லாவற்றையுமே துறந்த உன்னத மகான்களைக் கொண்ட அந்த மக்களுக்கு நாம் எவ்வளவு நன்றிக்கடன்பட வேண்டும்! பாரதம், பரமஹம்ஸரின் போதனைகள் மூலமாக இன்று நமக்கு எதை அளித்திருக்கின்றதோ அதன் மதிப் பானது, அதற்குப் பதிலாக நாம் பாரதத்திற்கு திருப்பிக் கொடுக்கக்கூடிய எதையும் விட மிக உயர்வானது. இன்றைய தினம், மேல்நாட்டு மனிதனுக்கு தன் ஆத்மாவின் வளங்களை மேம்படுத்திக் கொள்ள ஓர் ஆன்மீக உத்தியின் தேவை மிக அவசியம். அந்த உத்திதான் கிரியா யோகம், பாரதத்திலிருந்து முதன்முதலாக ஒரு மகாகுரு நமக்காக இங்கே கொண்டு வந்திருக்கும் ஒரு பழமையான விஞ்ஞானம்.

-ஸ்ரீ ஸ்ரீ ராஜரிஷி ஜனகானந்தர்,
தஹத்ஹழ்ள்ண் ஒஹய்ஹந்ஹய்ஹய்க்ஹ: அ எழ்ங்ஹற் ரங்ள்ற்ங்ழ்ய் வர்ஞ்ண்

నేటి సూక్తి

కృతజ్ఞతNovember 27

భారతదేశం తన మహాఋషులందు ఒకరైన పరమహంస యోగానందగారి ద్వారా మనకు ఈ ఆత్మ సాక్షాత్కారమనే అమూల్య జ్ఞానాన్ని తెచ్చి ఇచ్చింది. మానవునిలో దివ్యశక్తులను కనుగొనడానికి, యుగయుగాల నుండి అనేక మంది ఏ దేశపు మహాత్ములు తమ జీవితాలను, సర్వస్వాన్ని త్యాగం చేశారో, అలాంటి దేశానికి, ప్రజలకు మనం ఎంత కృతజ్ఞత కలిగి ఉండాలి? పరమహంసగారి బోధనల ద్వారా మనకు భారతదేశం ఇచ్చిన దానికి ప్రతిఫలంగా మనం ఏమి ఇచ్చినా అది, ఆయన బోధనలంత విలువ చేయదు. నేడు పాశ్చాత్య మానవునికి తన ఆత్మశక్తులను పెంపొందించుకొనే ఆధ్యాత్మిక ప్రక్రియల అవసరం చాలా ఉంది. క్రియాయోగము వంటి పురాతన శాస్త్రీయ ప్రక్రియను భారతదేశం నుండి వచ్చిన గురువు ప్రప్రథమంగా మనవద్దకు తెచ్చారు.

– శ్రీ శ్రీ రాజర్షి జనకానంద,
“Rajarsi Janakananda: A Great Western Yogi”

আজকের বাণী

কৃতজ্ঞতাNovember 27

ভারত তার অন্যতম শ্রেষ্ঠ মহাগুরু পরমহংস যোগানন্দের মাধ্যমে আত্মানুভূতিলাভের এই অমূল্য জ্ঞান আমাদের জন্য এনেছেন। সেই জাতির প্রতি আমাদের কতই না কৃতজ্ঞ হওয়া উচিত, যাদের মহাপুরুষগণ শত শত বছরধরে মানুষের মধ্যেকার দিব্য শক্তি উন্মোচনের জন্যে সর্বস্ব ত্যাগ করেছেন, এমনকি জীবনপাতও করেছেন! পরমহংসজীর শিক্ষাবলীর মাধ্যমে ভারত আজ আমাদের যা দিয়েছে, তার বদলে আমরা যা দিতে পারি, সে’সবার চেয়েও আমাদের কাছে ঐ শিক্ষার মূল্য অনেক বেশি। নিজ আত্মিক সম্পদ উন্নয়ণে আজ পাশ্চাত্যের মানুষের এক আধ্যাত্মিক প্রক্রিয়ার ভীষণ প্রয়োজন। ঐ প্রক্রিয়াই হলো “ক্রিয়া যোগ’’—এক প্রাচীন বিদ্যা, যা ভারত থেকে এক মহাগুরু সর্বপ্রথম আমাদের জন্যে নিয়ে এসেছেন।

—শ্রীশ্রী রাজর্ষি জনকানন্দ,
“Rajarsi Janakananda: A Great Western Yogi”

आजचा सुविचार

कृतज्ञताNovember 27

श्रेष्ठ महात्म्यांपैकी एक – परमहंस योगानंदांच्या रुपाने, आत्म-साक्षात्काराचे अमूल्य ज्ञान भारताने आपल्याकडे (पाश्‍चिमात्य देशात) आणले आहे. आपण किती कृतज्ञ असले पाहिजे त्या लोकांचे, ज्यांच्यातील श्रेष्ठतम माणसांनी, आपले जीवन अर्पण करून, सर्वसंग परित्याग करून, मानवातील दैवी क्षमतेचा शतकानुशतके शोध घेतला! परमहंसजींच्या शिकवण्यातून भारताने आपल्याला आज जे दिले आहे त्याचे मूल्य हे त्याच्या बदल्यात आपण भारताला काहीही दिले तरी त्याच्यापेक्षा अधिक आहे. आज पाश्‍चिमात्य माणसाला आपल्या आत्म्याच्या साधनांच्या विकासासाठी आध्यात्मिक तंत्रज्ञानाची अत्यंत निकड आहे. क्रिया योगाचे तंत्र, एक प्राचीन शास्त्र भारतातून प्रथमच आपल्याकडे एका महात्म्याने आणले आहे.

—राजर्षि जनकानंद,
“Rajarsi Janakananda: Great Western Yogi”

ഇന്നത്തെ ഉദ്ധരണി

കൃതജ്ഞതNovember 27

ഭാരതം അവളുടെ മഹാന്മാരായ ആചാര്യന്മാരിൽ ഒരാളായ പരമഹംസ യോഗാനന്ദനിലൂടെ ആത്മസാക്ഷാത്കാരത്തിന്റെ അമൂല്യമായ ഈ വിജ്ഞാനം നമുക്ക് എത്തിച്ചു തന്നിരിക്കുന്നു. മനുഷ്യനിലുള്ള ദൈവീകശക്തികളെ തേടി കണ്ടെത്താൻ വേണ്ടി ശതാബ്‌ദങ്ങളായി സ്വന്തം ജീവിതം സമർപ്പിക്കുകയും സർവ്വസ്വവും ഉപേക്ഷിക്കുകയും ചെയ്ത മഹാമഹത്തുക്കളായ പുരുഷന്മാരെ ഉൾക്കൊണ്ട ഒരു ജനതയോട് നാം എത്രമാത്രം കടപ്പെട്ടവരായിരിക്കണം! പരമഹംസജിയുടെ പ്രബോധനങ്ങളിലൂടെ ഭാരതം എന്താണോ നമുക്ക് തന്നത് അത് നാം ഭാരതത്തിന് പകരമായി കൊടുക്കാവുന്ന എന്തിനേക്കാളും നമുക്ക് വിലപിടിപ്പുള്ളതാണ്. തന്റെ ആത്മീയ വിഭവശേഷികൾ വികസിപ്പിച്ചെടുക്കുന്നതിന് ഉതകുന്ന ഒരു ആത്മീയ മാർഗം ഇന്ന് പാശ്ചാത്യ മനുഷ്യന് അടിയന്തിരമായ ആവശ്യമാണ്. ഭാരതത്തിൽ നിന്ന് ഒരു ആചാര്യൻ ആദ്യമായി നമുക്ക് എത്തിച്ചുതന്ന ഒരു പുരാതന ശാസ്ത്രമായ ക്രിയായോഗമാണ് ആ മാർഗം.

– ശ്രീ ശ്രീ രാജർഷി ജനകാനന്ദൻ,
“Rajarsi Janakananda: A Great Western Yogi”

Share this on

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email