“ ...you realize that all along there was something tremendous within you, and you did not know it. ”

— Paramahansa Yogananda
logo

“ ...you realize that all along there was something tremendous within you, and you did not know it. ”

— Paramahansa Yogananda

Paramahansa Yogananda

The author of the spiritual classic Autobiography of a Yogi, founded Yogoda Satsanga Society of India in 1917 to make available a comprehensive system of Kriya Yoga meditation techniques and “how-to-live” teachings to help those of all cultures and nationalities to realize and express more fully in their lives the beauty, nobility, and divinity of the human spirit.

Lessons for Home Study

Learn more about how the YSS Lessons can transform and bring balance to your life.

Online Dhyana Kendra

We invite you to join meditations, retreats, and events on YSS Online Dhyana Kendra led by sannyasis

Connecting With the Inner Source of Protection

Resources on Our Site To Help You Cope With the Current World Situation

Important Announcement

Covid-19 (Coronavirus) update for YSS Devotees and Centres.
Ranchi ashram Main building

SRF World Convocation 2020

All Online Convocation Events Still Available for Viewing

QUOTE OF THE DAY

Guru-Disciple RelationshipMarch 3

The Masters, the Good Shepherds of this world, come down from their high places and give their lives to searching for disciples who are lost in the darkness. They find them in desolate and dangerous places, arouse them, lift them to a divine shoulder, and bear them with rejoicing to a safe place in the fold. They feed them with celestial food and give them living water to drink, of which, if a man eat and drink, he shall live forever. They give them power to become the sons of God. They give their own lives, to the last ounce of flesh and the last drop of blood, for the redemption of the sheep who know their voice.

– Sri Gyanamata
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

आज का विचार

गुरु - शिष्य सम्बन्धMarch 3

सिद्धगण या गुरुजन, जो इस संसार के दिव्य चरवाहे (रखवाले तथा मार्गदर्शक) हैं, अपने उच्च लोकों से नीचे आते हैं और अपना जीवन उन शिष्यों को ढूँढ़ने में लगा देते हैं जो अँधकार में खो गये हैं। वे उन्हें निर्जन और संकटपूर्ण स्थानों में पाते हैं, उन्हें जगाकर अपने दिव्य कंधे पर रखते हैं, और अपने धामों में किसी सुरक्षित स्थान तक आनन्दपूर्वक उन्हें ढोते हैं। वे उन्हें दिव्य आहार खिलाते हैं तथा जीवनदायी जल पिलाते हैं, जिसे यदि कोई मनुष्य ग्रहण कर ले, तो वह अमर हो जायेगा। वे उन्हें ईश्वरपुत्र बनने की शक्ति प्रदान करते हैं। वे अपने मांस के अन्तिम कण और रक्त की अन्तिम बूँद तक अपना जीवन उन भेड़ों (शिष्यों) के उद्धार के लिये दे देते हैं जो उनकी वाणी को पहचानती हैं।

—श्री ज्ञानमाता,
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

આજે ધ્યાનમાં

ગુરુ-શિેષ્ય સંબંધMarch 3

ગુરુઓ, જગતના શ્રેષ્ઠ માર્ગદશેર્ક અને રખેવાળ છે, તેઓ પોતાના ઉચ્ચ સ્થાનેથી નીચે અવતરીને એવા શિષ્યોની શેાધમાં જીવન અર્પી દે છે, કે જે અંધકારમાં ખોવાઇ ગયા છે. તેઓ તેને વેરાન અને ભયંકર સ્થાનમાં રહેલા જુએ છે. તેને ઉઠાડે છે, દૈવી ખભ્ભા ઉપર ઉપાડે છે, અને આનંદપૂર્વક સલામત સ્થળ સુધી લઇ જાય છે. તેઓ તેને એવો દિવ્ય આહાર કરાવે છે, અને એવું દિવ્ય જીવનદાયી જળ પિવડાવે છે, કે જેને માનવ ગ્રહણ કરે તો અમર થઈ જશે. તેઓ તેને ઈશ્વરના પુત્ર થવાનો અધિકાર આપે છે. તેઓ તેમનું સંપૂર્ણ જીવન તેમના શરીરના અંતિમ કણ સુધી અને રક્તના છેલ્લા ટીપા સુધી એવાં અસહાય ઘેંટાંઓ (શિષ્યો) માટે અર્પી દે છે કે જે તેમનો અવાજ ઓળખે છે.

— શ્રી જ્ઞાનમાતા,
“God Alone: The Life and Letters of a Saints”

இன்றைய தத்துவம்

குரு-சிஷ்ய உறவுMarch 3

இவ்வுலகின் நல் இடையர்களான மகான்கள், தங்களு டைய உயர்ந்த நிலைகளிலிருந்து கீழிறங்கி வந்து இருளில் மூழ்கிக் கிடக்கும் சீடர்களைத் தேடுவதற்கு தங்கள் வாழ்க்கையை அர்ப்பணிக்கிறார்கள். இவர்கள், தங்கள் சீடர்கள் பாழான மற்றும் ஆபத்தான இடங்களில் இருப்பதைக் கண்டு, அவர்களை எழுப்பி, தெய்வீகத் தோள்களில் சுமந்து, பாதுகாப்பான இடத்திற்கு ஆனந்தத் துடன் அவர்களைத் தாங்கிச் செல்கின்றனர். இவர்கள் தெய்வீக உணவை அவர்களுக்கு ஊட்டி, ஜீவனுள்ள நீரைப் பருகக் கொடுக்கிறார்கள். இப்படிப் பட்டதை ஒருவன் உண்டாலும், பருகினாலும் அவன் என்றென்றும் வாழ்வான். இவர்கள், கடவுளின் மைந்தர்களாக ஆவதற்கு வேண்டிய சக்தியை அவர் களுக்கு அளிக்கிறார்கள். இவர்களுடைய குரலை அறிந்து கொள்ளும் ஆடுகளின் (சீடர்களின்) மீட்பிற்காக இவர்கள், கடைசித் துண்டு சதையும் கடைசிச் சொட்டு இரத்தமும் உள்ளவரை தங்கள் சொந்த வாழ்க்கையை அர்ப்பணித்துக் கொள்கிறார்கள்.

-ஸ்ரீ ஞானமாதா,
எர்க் அப்ர்ய்ங்: பட்ங் கண்ச்ங் ஹய்க் கங்ற்ற்ங்ழ்ள் ர்ச் ஹ நஹண்ய்ற்

నేటి సూక్తి

గురు-శిష్య సంబంధంMarch 3

శిష్యజన సంరక్షకులైన మహాత్ములు తమ ఉన్నత స్థానాలనుండి దిగి వచ్చి అంధకారంలో దారి తప్పి తిరుగుతున్న శిష్యులను వెదకడంలో తమ జీవితాలను వెచ్చిస్తారు. శిష్యులను ప్రమాదకరమైన, నిర్జన ప్రదేశాలలో కనుగొని వారిని మేల్కొలిపి తమ భుజములపై కెత్తుకొని సంతోషంతో సురక్షితమైన ఆవరణలోనికి చేరుస్తారు. వారికి దివ్య భోజనం పెట్టి జీవన పానీయాన్ని త్రాగుటకు ఇచ్చి, వాటి ద్వారా అమరత్వాన్ని ప్రసాదిస్తారు. వారు దైవ పుత్రులుగా మారడానికి తగిన శక్తినిస్తారు. తమ పిలుపును గుర్తించి వచ్చిన శిష్యులను ఉద్ధరించడానికి తమ జీవితాలను, రక్త మాంసాలను ధారపోస్తారు.

– శ్రీ జ్ఞానమాత,
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

আজকের বাণী

গুরু-শিষ্য সম্বন্ধMarch 3

যেসকল শিষ্য অজ্ঞান অন্ধকারে হারিয়ে গেছে তাদের সন্ধান করতে, ইহজগতে যীশু খ্রিস্ট ও অন্য মহাপুরুষগণ তাঁদের উচ্চ আসন থেকে নেমে আসেন এবং নিজ জীবন উৎসর্গ করে থাকেন। তাঁরা নির্জন ও বিপদসঙ্কুল স্থানে ঐসব শিষ্যদের দেখা পান, তাদের জাগিয়ে তোলেন এবং কারোর দিব্য স্কন্ধে আরোহণ করিয়ে আনন্দসহকারে নিরাপদ আস্তানায় ফিরিয়ে নিয়ে আসেন। তাঁরা ঐ শিষ্যদের স্বর্গীয় খাদ্য দেন ও পানের জন্য জীবনদায়ী জল দেন। যারা ঐসব আহার খাবে ও জল পান করবে, তারা চিরায়ু হবে। তাঁরা তাদেরকে ঈশ্বরপুত্র হবার মত যোগ্য শক্তিও দেন। তাঁদের কণ্ঠস্বরের সঙ্গে পরিচিত মেষদের মুক্তিসাধনের নিমিত্ত তাঁরা নিজ জীবনের শেষ রক্তবিন্দু পর্যন্ত ত্যাগ করে থাকেন।

—শ্রী জ্ঞানমাতা
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

आजचा सुविचार

गुरु-शिष्य संबंधMarch 3

या जगातील सिध्द, जे चांगल्या गुराख्यासारखे असतात, ते आपल्या उच्च स्थानावरून खाली येतात आणि अंधारात हरविलेल्या आपल्या शिष्यांचा शोध घेण्यासाठी आपले जीवन व्यतीत करतात. ते उध्वस्त आणि धोकादायक जागी त्यांना शोधतात, त्यांना जागृत करतात. आपल्या दैवी खांद्यांवर उचलून घेऊन आनंदाच्या जल्लोषात त्यांना संघातील सुरक्षित जागी नेतात. त्यांना स्वर्गीय भोजन देतात आणि पिण्यासाठी अमरत्वाचे पाणी देतात, जर माणसाने ते खाल्ले आणि प्यायले तर माणूस अमर होईल. ते त्यांना ईश्वराची संतान बनण्याचे बळ देतात. आपला आवाज ओळखणार्‍या आपल्या शिष्यरूपी शेळयांच्या पापमुक्तीसाठी ते आपल्या मांसाचा शेवटचा अंश आणि रक्ताचा शेवटचा थेंब असेपर्यंत स्वत:चे आयुष्य वेचतात.

—श्री ज्ञानमाता,
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

ഇന്നത്തെ ഉദ്ധരണി

ഗുരുശിഷ്യബന്ധംMarch 3

ഈ ലോകത്തിന്റെ നല്ല ഇടയന്മാരായ ആചാര്യന്മാർ അവരുടെ ഉന്നതസ്ഥാനങ്ങളിൽനിന്ന് ഇറങ്ങിവന്ന് അന്ധകാരത്തിൽ വഴിതെറ്റിയ ശിഷ്യന്മാരെ തേടുന്നതിന് അവരുടെ ജീവിതം നൽകുന്നു. അവർ അത്തരം ശിഷ്യരെ വിജനവും അപകടകരവുമായ സ്ഥലങ്ങളിൽ കണ്ടെത്തുന്നു, അവരെ ഉണർത്തുന്നു, ദിവ്യമായ ഒരു ചുമലിലേറ്റുന്നു, ആഹ്ലാദത്തോടെ അവരെ തൊഴുത്തിൽ ഒരു സുരക്ഷിതമായ സ്ഥലത്തു കൊണ്ടെത്തിക്കുന്നു. അവർക്ക് സ്വർഗീയാഹാരം ഊട്ടുന്നു, കുടിക്കാൻ ജീവജലം നൽകുന്നു. അവ ഒരു മനുഷ്യൻ തിന്നുകയും കുടിക്കുകയും ചെയ്താൽ അവൻ നിത്യജീവൻ കൈക്കൊള്ളും. ആ ആചാര്യന്മാർ ദൈവപുത്രന്മാരാകാൻ അവർക്കു ശക്തിനൽകുന്നു. അവരുടെ ശബ്ദം തിരിച്ചറിയുന്ന ആടുകളുടെ പാപവിമോചനത്തിനായി സ്വന്തം ജീവിതത്തിലെ മാംസത്തിന്റെ അവസാനത്തെ കഷണവും, രക്തത്തിന്റെ അവസാനതുള്ളിയുംവരെ അവർ നൽകുന്നു.

– ശ്രീ ജ്ഞാനമാതാ,
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”

ಇಂದಿನ ಸೂಕ್ತಿ

ಗುರು-ಶಿಷ್ಯರ ಸಂಬಂಧMarch 3

ಈ ಪ್ರಪಂಚದ ಕ್ರಿಸ್ತನಂತಹ (Good Shepherds) ಒಳ್ಳೆಯ ಕುರುಬರಂತೆ ಗುರುಗಳು ತಮ್ಮ ಉನ್ನತ ಸ್ಥಾನಗಳಿಂದ ಇಳಿದು ಬಂದು, ಅಂಧಕಾರದಲ್ಲಿ ದಾರಿ ತಪ್ಪಿರುವ ಶಿಷ್ಯರನ್ನು ಹುಡುಕುವುದಕ್ಕಾಗಿ ತಮ್ಮ ಜೀವನವನ್ನೇ ಮುಡುಪಾಗಿಡುತ್ತಾರೆ. ಪಾಳುಬಿದ್ದ ಮತ್ತು ಅಪಾಯಕರ ಸ್ಥಳಗಳಲ್ಲಿ ಅವರಿರುವುದನ್ನು ಕಂಡು ಅವರನ್ನೆಚ್ಚರಿಸಿ, ಅವರನ್ನು ತಮ್ಮ ದೈವೀ ಭುಜದ ಮೇಲೇರಿಸಿಕೊಂಡು ಅವರನ್ನು ಆನಂದದಿಂದ ಹೊತ್ತು ಸುರಕ್ಷಿತ ಸ್ಥಳಕ್ಕೆ ತರುತ್ತಾರೆ. ಅವರಿಗೆ ಉಣಲು ದಿವ್ಯ ಆಹಾರವನ್ನು ಮತ್ತು ಕುಡಿಯಲು ಜೀವ ಜಲವನ್ನು ನೀಡುವರು; ಅದನ್ನು ಉಂಡವರು ಮತ್ತು ಕುಡಿದವರು ಚಿರಂಜೀವಿಯಾಗುವರು. ದೇವರ ಮಕ್ಕಳಾಗಲು, ಅವರಿಗೆ ಸದ್ಗುರುಗಳು ಯೋಗ್ಯ ಸಾಮರ್ಥ್ಯವನ್ನು ನೀಡುತ್ತಾರೆ. ಅವರ ವಾಣಿಯನ್ನರಿತ ಶಿಷ್ಯ (Sheep)ನ ಮುಕ್ತಿಗಾಗಿ ತಮ್ಮ ಸ್ವಂತ ಜೀವನವನ್ನೇ ಮುಡಿಪಾಗಿಟ್ಟು ತಮ್ಮ ಮಾಂಸದ ಕೊನೆಯ ಚೂರನ್ನೂ, ತಮ್ಮ ರಕ್ತದ ಕೊನೆಯ ಹನಿಯನ್ನೂ ಸಮರ್ಪಿಸುತ್ತಾರೆ.

— ಶ್ರೀ ಜ್ಞಾನಮಾತಾ,
“God Alone: The Life and Letters of a Saint”