“ ...you realize that all along there was something tremendous within you, and you did not know it. ”

— Paramahansa Yogananda
logo

“ ...you realize that all along there was something tremendous within you, and you did not know it. ”

— Paramahansa Yogananda

Paramahansa Yogananda

The author of the spiritual classic Autobiography of a Yogi, founded Yogoda Satsanga Society of India in 1917 to make available a comprehensive system of Kriya Yoga meditation techniques and “how-to-live” teachings to help those of all cultures and nationalities to realize and express more fully in their lives the beauty, nobility, and divinity of the human spirit.

Lessons for Home Study

Learn more about how the YSS Lessons can transform and bring balance to your life.

Join Online Meditations

The online Thursday meditations will be held in different Indian languages like Hindi, Bengali, Gujarati, Malayalam, Tamil, Telugu etc.

Connecting With the Inner Source of Protection

Resources on Our Site To Help You Cope With the Current World Situation

Important Announcement

Covid-19 (Coronavirus) update for YSS Devotees and Centres.

SRF World Convocation 2020

All Online Convocation Events Still Available for Viewing

QUOTE OF THE DAY

GratitudeNovember 30

O Father, when I was blind I found not a door that led to Thee. Thou hast healed my eyes; now I discover doors everywhere: the hearts of flowers, the voices of friendship, memories of lovely experiences. Each gust of my prayer opens a new entrance to the vast temple of Thy presence.

– Sri Sri Paramahansa Yogananda
“Whispers from Eternity”

आज का विचार

कृतज्ञताNovember 30

हे परमपिता! जब मैं अन्धा था तब मुझे आप तक ले जाने वाला एक भी द्वार न मिला। आपने मेरी आँखें ठीक कर दी हैं; अब मैं सर्वत्र द्वारों को देखता हूँ : फूलों के हृदयों में, मित्रता की वाणियों में, सुन्दर अनुभवों की स्मृतियों में। मेरी प्रार्थना का प्रत्येक झोंका आपकी उपस्थिति के विशाल मन्दिर के एक नये प्रवेश - द्वार को खोल देता है।

— श्री श्री परमहंस योगानन्द,
“Whispers from Eternity”

આજે ધ્યાનમાં

કૃતજ્ઞતાNovember 30

હે પિતા, જ્યારે હું અંધ હતો ત્યારે હું એકપણ દ્વાર શોધી શકતો ન હતો કે, જે મને તારા તરફ લઇ જાય. તમે મારી આંખો સ્વસ્થ કરી દીધી છે; હવે હું સર્વસ્થળે દ્વાર જ દ્વાર જોઉં છું: ફૂલોના હૃદયોમાં, મિત્રતાના વચનોમાં, સુંદર અનુભવોની સ્મૃતિઓમાં. મારી પ્રાર્થનાની પ્રત્યેક લહેર તારી ઉપસ્થિતિનાં વિશાળ મંદિરના નવા નવા પ્રવેશ દ્વારોને ઉઘાડે છે.

-શ્રી શ્રી પરમહંસ યોગાનંદ,
‘‘Whispers from Eternity’’

இன்றைய தத்துவம்

நன்றிக்கடன்November 30

இறைவா, நான் குருடனாக இருந்தபொழுது உன்னிடம் இட்டுச் செல்லும் எந்த ஒரு வாயிலையும் நான் காணவில்லை. நீ என் கண்களை குணப்படுத்தி விட்டாய்; இப்பொழுது நான் எங்கும் வாயில்களைக் காண்கிறேன்: மலர்களின் இதயங்கள், நட்பின் குரல்கள், மற்றும் அழகான அனுபவங்களின் நினைவுகள். என்னுடைய பிரார்த்தனையின் ஒவ்வொரு காற்று வீச்சும் உன் இருப்பின் பரந்த ஆலயத்திற்கு ஒரு புதிய நுழைவாயிலைத் திறக்கிறது.

-ஸ்ரீ ஸ்ரீ பரமஹம்ஸ யோகானந்தர்,
ரட்ண்ள்ல்ங்ழ்ள் ச்ழ்ர்ம் உற்ங்ழ்ய்ண்ற்ஹ்

నేటి సూక్తి

కృతజ్ఞతNovember 30

ఓ తండ్రీ, నేను అంధుడిగా ఉన్నప్పుడు నిన్ను చేర్చే ద్వారమే కనపడలేదు. నా కళ్ళను నయం చేశావు. ఇప్పుడు నాకు అంతటా–పుష్పాల హృదయాల్లో, స్నేహకంఠాల్లో, అందమైన అనుభవాల జ్ఞాపకాలలో ద్వారాలే కనవస్తున్నాయి. నా ప్రతి ప్రార్థన తెమ్మెర నీ సాన్నిధ్యపు విశాల దేవళంలో ఒక కొత్త ద్వారాన్ని తెరుస్తోంది.

– శ్రీ శ్రీ పరమహంస యోగానంద,
“Whispers from Eternity”

আজকের বাণী

কৃতজ্ঞতাNovember 30

হেপিতা, আমি যখন অন্ধ ছিলেম তখন তোমার কাছে যাবার মত একটাও দরজা আমি খুঁজে পাইনি। এখন তুমি আমার চক্ষুদ্বয় নিরাময় করে দিয়েছ। এখন আমি ফুলের অন্তঃকরণে, বন্ধুত্বের কণ্ঠস্বরে, সুন্দর সুন্দর অভিজ্ঞতার স্মৃতিতে — সর্বত্রই দুয়ার দেখতে পাই। আমার প্রার্থনারূপ প্রতিটি দমকা বাতাস, তোমার উপস্থিতিরূপ বিশাল মন্দিরের নতুন নতুন প্রবেশপথ উন্মুক্ত করে দেয়।

—শ্রীশ্রী পরমহংস যোগানন্দ,
“দিব্য বাণী’’

आजचा सुविचार

कृतज्ञताNovember 30

हे परमेश्वरा, जेव्हा मी अंध होतो, तेव्हा तुझ्याकडे नेणारे एकही द्वार मला सापडले नाही. तू माझी दॄष्टी बरी केलीस. आता सगळीकडे: फुलांच्या हृदयात, मैत्रीच्या आवाजांत, आनंददायक अनुभवांच्या स्मृतींमध्ये, मी उघडे दरवाजे पाहतो आहे. माझ्या प्रेमाचा प्रत्येक झोत तुझ्या अस्तित्वाच्या प्रचंड देवालयाचे नवीन द्वार उघडते आहे.

—श्री श्री परमहंस योगानंद,
“Whispers from Eternity”

ഇന്നത്തെ ഉദ്ധരണി

കൃതജ്ഞതNovember 30

അല്ലയോ പിതാവേ, ഞാൻ അന്ധനായിരുന്നപ്പോൾ അങ്ങയിലേക്കു നയിക്കുന്ന ഒരു വാതിലുപോലും ഞാൻ കണ്ടില്ല. അങ്ങ് എന്റെ കണ്ണുകളെ സുഖപ്പെടുത്തി; പൂക്കളുടെ ഹൃദയങ്ങൾ, സൗഹൃദത്തിന്റെ സ്വരങ്ങൾ, മനോഹരമായ അനുഭവങ്ങളുടെ ഓർമ്മകൾ എന്നിങ്ങനെയുള്ള വാതിലുകൾ ഇപ്പോൾ ഞാൻ എല്ലായിടത്തും കണ്ടെത്തുന്നു;. എന്റെ പ്രാർത്ഥനയുടെ ഓരോ ശക്തമായ കാറ്റും അങ്ങയുടെ സാന്നിധ്യത്തിന്റെ അതിവിശാലമായ ദേവാലയത്തിലേക്ക് ഒരു പുതിയ വാതിൽ തുറക്കുന്നു.

– ശ്രീ ശ്രീ പരമഹംസ യോഗാനന്ദൻ,
“Whispers From Eternity”