YSS

परमहंस योगानन्दजी के पश्चिम में आगमन पर एसआरएफ़ शताब्दी स्मरणोत्सव का लाइवस्ट्रीम कार्यक्रम

21 सितंबर, 2020

एसआरएफ़ शताब्दी समारोह के इस सप्ताहांत लाइवस्ट्रीम कार्यक्रम, 19-20 सितंबर, 2020

हमें आपको एक विशेष लाइवस्ट्रीम समारोह के विषय में जानकारी देते हुए प्रसन्नता हो रही है, उस दिन के शताब्दी स्मरणोत्सव के रुप में जब परमहंस योगानन्दजी ने सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप की 1920 में स्थापना की थी। (भारत तथा पड़ोसी देशों में परमहंसजी की संस्था को योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया के नाम से जाना जाता है, जिसकी स्थापना परमहंसजी ने 1917 में की थी।)

यह समारोह ठीक उस दिन की स्मृति में है जब परमहंस योगानन्दजी ने पहली बार अपने देश भारत से आकर पश्चिम में, बोस्टन, मैसाचुसेट्स में अमेरिकी धरती पर 19 सितंबर, 1920 को पाँव रखा। उसी वर्ष वे अपनी क्रिया योग की शिक्षाओं के विश्वव्यापी प्रसार हेतु सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप की स्थापना करने वाले थे। बाद में वे, लाखों सत्यान्वेषियों को क्रिया योग के कालातीत विज्ञान से परिचित कराने में, ‘पश्चिम में योग के पिता’ के रूप मे जाने जाते।

लाइवस्ट्रीम कार्यक्रम शनिवार, 19 सितंबर, सायं 7:30 - 9:00 बजे (भारतीय समयानुसार) हुआ और उसमें निम्नलिखित कार्यक्रम सम्मिलित किये गए :

  • पियर्स पार्क, बोस्टन में सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप के संन्यासियोंद्वारा आयोजित एक अनुष्ठान। यह वही स्थान है जहाँ ठीक 100 वर्ष पूर्व द सिटी ऑफ स्पार्टा नामक जहाज़ से समुद्री यात्रा के पश्चात ये युवा स्वामी बोस्टन के हार्बर पर पधारे थे;
  • उसके पश्चात योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया/सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप के अध्यक्ष और आध्यात्मिक प्रमुख, स्वामी चिदानन्द गिरि द्वारा लॉस एंजिलिस में सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय से एक विशेष सत्संग। यदि आप लाइवस्ट्रीम सत्र में भाग नहीं ले पाते हैं, तो वीडियो हमारी वेबसाइट और एसआरएफ़ के YouTube चैनल पर शीघ्र ही उपलब्ध करा दिया जाएगा।
SRF Centennial Weekend
वीडियो चलाएं

शताब्दी के अवसर पर 24 घंटे का विशेष लम्बा ध्यान — सितम्बर 19 – 20

सन 1920 में परमहंस योगानन्दजी के अमेरिका में आगमन और एसआरएफ़ की स्थापना की शताब्दी के अवसर पर आयोजित किए जा रहे स्मरणोत्सव के अंतर्गत 24 घंटे का लम्बा ध्यान आयोजित हुआ। वाईएसएस/एसआरएफ़ के अध्यक्ष और आध्यात्मिक प्रमुख, स्वामी चिदानन्द गिरि ने, इस विशेष लंबे ध्यान के पहले घंटे का संचालन किया। बाकी का भाग वाईएसएस/एसआरएफ़ के वरिष्ठ संन्यासियों द्वारा संचालित किया गया।

  • शनिवार, 19 सितंबर, रात्रि 10:30 बजे से रविवार, 20 सितंबर, रात्रि 10:30 बजे तक (भारतीय समयानुसार)

मौन के सत्रों के अतिरिक्त, ध्यान के कार्यक्रम में निम्नलिखित सम्मिलित थे :

  • वाईएसएस/एसआरएफ़ शक्ति-संचार व्यायामों का अभ्यास
  • भक्तिपूर्ण चैंटिंग
  • जरुरतमंदों तथा और अधिक विश्व शांति एवं सौहार्द के लिए प्रार्थना
  • दूसरों को आरोग्यकारी शक्ति भेजने तथा समस्त विश्व के कल्याण हेतु शांति और सौहार्द के स्पंदन भेजने के लिए परमहंस योगानन्दजी की प्रविधि का अभ्यास

पिछले कार्यक्रम

जनवरी 5, 2020

परमहंस योगानन्दजी के अमेरिका आगमन और पूरे विश्व में क्रिया योग की शिक्षाओं का प्रसार करने हेतु सेल्फ़-रियलाइज़ेशन फ़ेलोशिप की स्थापना की सौंवी वर्षगांठ के उद्घाटन पर एक विशेष लाइवस्ट्रीम कार्यक्रम देखें। इस समारोह को परमहंस योगानन्दजी के जन्म-दिवस पर लॉस एंजिलिस में स्थित एसआरएफ़ अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय में आयोजित किया गया था। इसका नेतृत्व वाईएसएस/एसआरएफ़ के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्दजी ने किया, जिसमें अन्य एसआरएफ़ संन्यासी-संन्यासिनियों ने भी भाग लिया।

2020 centennial inaugural celebration
वीडियो चलाएं
In the spirit of pilgrimage a centennial celebratory procession
वीडियो चलाएं

शेयर करें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email