राष्ट्रव्यापी कोविड-19 राहत गतिविधियों में वाईएसएस की भागीदारी

प्रिय दिव्य आत्मन्,

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर ने भारत को एक अभूतपूर्व संकट में घेर लिया है। देश उन बड़ी चुनौतियों से उबरने के लिए संघर्ष कर रहा है, जिसमें चिकित्सीय सुविधाओं व उपकरणों का अभाव, कई ज़रूरी चिकित्सा आपूर्तियों की भयंकर कमी, और बेहद ज़रूरतमंद तथा अक्सर जीवन हानि की संभावना में फंसे लोगों तक, सीधी व्यक्तिगत राहत पहुंचाने की असमर्थता शामिल हैं। कम ही लोग हैं, जो कोविड-19 के प्रत्यक्ष प्रभाव से बचे हैं, चाहे वह किसी प्रियजन का विछोह हो, आजीविका की हानि हो या फिर सबके स्वास्थ्य एवं सुरक्षा संबंधी अनिश्चितता। हमारा हृदय उन सबके लिए द्रवित है जिन्होंने इस तरह की हानि झेली है, और गहन प्रार्थना करते हैं कि जगन्माता उन्हें सर्व-सांत्वना दायक प्रेम से भर दें।

योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया ने, इस संकट से निपटने के राष्ट्रव्यापी प्रयासों में, प्रभावित लोगों तक सामग्री व सेवा पहुंचा कर भाग लिया है — विशेषतः उन्हें जो कम भाग्यशाली और अधिक चपेट में हैं। ये राहत गतिविधियां 20 राज्यों के 25 से अधिक शहरों में जारी हैं, तथा प्रतिदिन और शहरों को जोड़ा जा रहा है।

हम इस समय आप तक पहुंचना और साझा करना चाहते हैं कि हाल ही में हमने क्या किया है, और देश पर इस संकट के समय, हम राहत पहुंचाने के जारी प्रयासों में और क्या करना चाहते हैं।

राहत सामग्री और सेवाएं

हमने अपने आश्रमों, केंद्रों और मंडलियों को, ज़रूरतमंद लोगों व परिवारों तक, सीधी पहुंच बनाने के प्रयासों का केंद्र बनाया है। यह प्रयास ज़रूरतमंद लोगों व परिवारों तक सीधे पहुंच रहे हैं। इसके साथ, हम कोविड-19 के मरीजों के इलाज व देखभाल में लगे, कई अस्पतालों व गैर सरकारी संगठनों की, राहत गतिविधियों में सहायता कर रहे हैं।

योगदा सत्संग सेवा आश्रम कर्मी, एंबुलेंस और शव वाहन के साथ, राँची
राजामुंदरी के स्वयंसेवक पीपीई किट पहने हुए जो कोविड-19 मरीज़ों को आवश्यक सामग्री एवं भोजन की आपूर्ति करते हैं
  • हम अतिरिक्त बिस्तर, स्ट्रेचर, व्हीलचेयर और जीवनदायी दवाइयों और उपकरणों जैसे कि बीआईपीएपी मशीन (नाॅन इनवेसिव वेंटिलेटर), ऑक्सीजन कंसंट्रेटर आदि, उन अस्पतालों को उपलब्ध करा रहे हैं जो इनकी कमी से जूझ रहे हैं। इनमें रांची, कोयम्बटूर, हरिद्वार, मदुरई, मुंबई, नागपुर, श्रीरामपुर, वेल्लोर और विजयवाड़ा स्थित अस्पताल शामिल हैं।
  • हम आवश्यक आपूर्ति जैसे दवाएं, पल्स ऑक्सीमीटर, पीपीई किट, फेस शील्ड (मुख कवच), मेडिकल दस्ताने, सैनिटाइजर, N95 मस्क, थर्मामीटर आदि, कोविड-19 के मरीज़ों की सेवा में लगे हुए अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों और स्वयंसेवकों तक सीधे पहुंचा रहे हैं। यह राहत हम दक्षिणेश्वर, द्वाराहाट, अरसिकेरे, बलारी, बेंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नई, कोयंबटूर, लखनऊ, मंगलुरु, मैसूर, रायपुर और तंजावुर में पहुंचा रहे हैं।
  • द्वारहाट में स्थानीय छोटे अस्पताल को, उन्नत चिकित्सा की ज़रूरत वाले मरीज़ों को, हल्द्वानी के बड़े अस्पताल ले जाने के लिए एक एंबुलेंस की ज़रूरत थी, जो उनके पास नहीं थी। इस कमी को पूरा करने हेतु, हमने एक वाहन खरीदा और अब उसे आवश्यक सुविधाओं से युक्त करा रहे हैं।
  • हम सरकारी अस्पतालों में ज़रूरी सामान भी बांट रहे हैं, जैसे उड़ुपी में गर्म पानी के डिस्पेंसर, चेन्नई में शव थैले।
  • राँची में हमारा आश्रम अस्पताल व कर्मी, ज़रूरतमंदों को रात-दिन, एक एंबुलेंस, एक शव वाहन, आक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति, मेडिकल किट और मुफ्त परामर्श उपलब्ध करा रहे हैं।
  • हमने आईसीयू के कुछ मरीज़ों को, आंशिक रूप से खर्च चुकाने हेतु, वित्तीय सहायता भी दी है; और कुछ मामलों में मरने वालों, जहाँ मरने वाला परिवार में अकेला कमाने वाला था, के निकटतम संबंधी की आर्थिक मदद की है।
  • लॉकडाउन के कारण आजीविका गंवा चुके लोगों के बीच, सूखी खाद्य सामग्री के पैकेट बांटने का प्रयास जारी है। यह वितरण राँची, द्वाराहाट, दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, अहमदाबाद, बलारी, बेंगलुरु, वेल्लागवी, हरिद्वार, हासन, कैगा-कारवार, मांड्या, मुज़फ्फरपुर, आंगोल, राजामुंदरी और तिरुक्कलुकोंड्रम में हो रहा है।
वाईएसडीके बेंगलुरु के भक्त, एक स्वयंसेवी संस्था को कोविड-19 प्रभावित 80 गरीब परिवारों में बांटने के लिए सूखी खाद्य सामग्री सौंपते हुए
चिकित्सा सामग्री के साथ स्वंयसेवक, द्वाराहाट

हम अपने वाईएसएस भक्तों व मित्रों के बहुत आभारी हैं जिन्होंने ज़रूरतमंदों को चिन्हित करने व कोविड-19 राहत प्रयासों के बीच तालमेल करने में मदद की है। हम उनकी निस्वार्थ सेवा भावना का सम्मान करते हैं, जो हमारे परम प्रिय गुरुदेव द्वारा प्रदत्त व वाईएसएस के उद्देश्यों व आदर्शों में से एक, “अपनी ही वृहद्-आत्मा के रूप (परमात्मा) में मानव जाति की सेवा करने” का प्रतीक है।

कोयंबटूर में, ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर, N95 मास्क, पीपीई किट आदि शिवांजलि ट्रस्ट को दी गई
ऑक्सीजन कंसंट्रेटर कोविड-19 अस्पताल, चेन्नई को दान दिया
दो बीआईपीएपी मशीनें जीएमसीएच अस्पताल नागपुर को दान दीं
व्हीलचेयर और स्ट्रेचर्स कोविड- 19 अस्पताल, थौप्पुर, मदुरई को दान दीं

राहत कार्य में लिप्त हमारे दो भक्त स्वयंसेवकों द्वारा साझा किए गए संदेश :

"पीड़ितों और देखभाल कर्ताओं की सहायता कर, उन्हें जताना : ‘हम तुम्हारे साथ हैं, तुम्हें सहारा दे रहे हैं,’ गहराई तक संतुष्ट करता है।”

— के बी, राजामुंदरी

“मैं आभारी हूं कि हम बाहर निकल कर सरकारी अस्पताल, जिसे जीवन बचाने वाले बीआईपीएपी जैसे उपकरण की ज़रूरत थी, की ओर मदद का हाथ बढ़ा सके। अपने गुरु के कार्यशील हाथ बनकर, एक अंतर पैदा करना, एक महान कृपा है।”

— आर आर, नागपुर

आपका समर्थन अत्यंत महत्वपूर्ण है। कोविड राहत की आवश्यकता अभी समाप्त नहीं हुई है। लोगों को आपकी सहायता की आवश्यकता है। अपने प्रयासों को जारी रखने के लिए हम सामर्थ्यवान लोगों को कोविड-19 राहत गतिविधियों हेतु दान देने के लिए आमंत्रित करते हैं। आप की हार्दिक उदार सहायता से ही हमारे द्वारा सेवा संभव है। इसके साथ ही हम चाहेंगे कि आप ज़रूरतमंदों के लिए प्रार्थना करें जो कि उतनी ही महत्वपूर्ण है। गुरुदेव ने हमें प्रार्थना का सही तरीका बताया है; और यह भी कि प्रार्थना से अंतर पड़ता है। अत्यंत ज़रूरत के इस समय में वाईएसएस संन्यासी प्रार्थनाएं कर रहे हैं जिसमें प्रतिदिन विशेष ऑनलाइन आरोग्यकारी प्रार्थना-सत्र भारतीय समयानुसार रात 9:40 बजे से 10:00 बजे तक शामिल है। जब भी हो सके यथासंभव इस में भाग लें।

हमारे गुरुदेव श्री श्री परमहंस योगानन्द ने कहा है, “प्रतिदिन आपके आसपास जो भी शारीरिक, मानसिक, या आध्यात्मिक रूप से रुग्ण हो, उसकी सहायता आप उसी प्रकार करने का प्रयास करें जैसी आप स्वयं अपनी या अपने परिवारजनों की करते। तब जीवन के नाट्यमंच पर आपकी भूमिका चाहे जो भी हो, आप यह जान जाएंगे कि आप उसे सभी भाग्यों के निर्देशक के निर्देशन में, ठीक प्रकार से निभा रहे हैं।”

हम आमंत्रित व स्वागत करते हैं कि आप हमारे सम्मुख चुनौतियों से उबरने के, हमारे यथासंभव सामूहिक प्रयास में भाग लें। प्रभु और गुरु हमारी हार्दिक प्रार्थनाओं एवं मानवीय राहत प्रयासों को अपने करुणामय आरोग्यकारी प्रकाश तथा दिव्य प्रेम से सहेज लेंगे।

दिव्या मित्रता में,

योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया

यदि आप इस सेवा गतिविधि में सहयोग देने के इच्छुक हैं, तो कृपया ऑनलाइन दान देने पर विचार करें।

कृपया ध्यान दें कि योगदा सत्संग सोसाइटी ऑफ़ इण्डिया, आयकर अधिनियम 1961 के प्रावधानों के तहत एक मान्यता प्राप्त परोपकारी संस्था है। सोसाइटी को दिया गया दान (PAN: AAATY0283H) उक्त अधिनियम की धारा 80-जी के तहत आयकर से मुक्त है।

यदि आप को दान संबंधी या राहत गतिविधि विषयक कोई जिज्ञासा है तो कृपया राँची हैल्प डेस्क से ईमेल [email protected] या फोन: +91(651) 6655 555 पर (सोमवार से शनिवार प्रातः 9:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक) संपर्क कर सकते हैं।

राहत गतिविधियों का मीडिया कवरेज

शेयर करें

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email